आप अपने बच्चे को फोलियो नंबर गिफ्ट कीजिए!!

ये सुनने में अटपटा है लेकिन है बहुत ही मारक. आप आजमाइए. आप खुश हो जायेंगे. जिस दिन आपके घर में एक नया सदस्य आता/आती है, उसी महीने से आप उसके नाम से एक इक्विटी म्यूच्यूअल फण्ड लीजिये. और महज उसमें 500 रुपये हर महीने डालिए. और तब तक डालिए जब तक आप दादा/दादी ना बन जाए. दादा/दादी बनने की ख़ुशी में उसे उस फोलियो को गिफ्ट कर दें.

अगर हम यह मान कर चले की आपके घर में नया सदस्य आपके 30वें साल में आया है और उसके 30 साल बाद आप दादा/दादी बनते हैं. इस 30 में आपने महज 500-500 रुपये कर 30 साल में 180000 रुपये जमा किये. जिस पर 18 फीसदी के हिसाब का कंपाउंड इंटरेस्ट जोड़ें तो आप अपने पोते-पोती को 72 लाख रुपये से ज्यादा की रकम सौपेंगे.

ये गिफ्ट का तरीका बहुत ही यूनिक है. आप इससे ना केवल अपने बच्चों बल्कि उसके भी बच्चों को एक भारी मदद देंगे. इसे आजमाइए.

आप खर्च को निपटाते हैं या खर्च आपको?

जरूरतें लोगों की ख़त्म नहीं होती लेकिन पैसा ख़त्म हो जाता है. जरूरत और चाहत के बीच जिंदगी में बड़ी कसमकस है. आम जीवन में खर्च हमेशा कमाई से ज्यादा होता है. क्या आप अपने खर्च को समझते हैं, उसे मैनेज करना जानते हैं? अगर हां, तो वाकई ये अच्छी बात है और अगर नहीं तो इसे मैनेज करना सीखिए.

कुछ उपाय…

सबसे पहले आप ये जानने की कोशिश कीजिए कि आपकी कमाई का सबसे बड़ा खर्च किस चीज पर हो रहा है.

बच्चों की पढाई को छोड़ कर सभी चीजों के खर्च को आप मैनेज कर सकते हैं, या करना चाहिए. मसलन… कपड़ों पर खर्च, घूमने पर खर्च, दवाइयों पर खर्च, महंगे गैजेट खरीदने का शौक…. ये कुछ ऐसे खर्च हैं जो आप अपनी कमाई से हर महीने-दो महीने में इन पर खर्च करते हैं.

कुछ खर्च ऐसे हैं जो जीवन में एक बार होते हैं लेकिन जीवन की सारी कमाई आपका ले लेती हैं. शादी में होने वाला खर्च, बीमारी पर ऑपरेशन का खर्च, घर खरीदने-बनाने का खर्च…ये तीन जीवन के सबसे बड़े खर्च हैं, जिसे मैनेज करना ही चाहिए.

शादी में खर्च कम कीजिए, दिखावा करना कोई अच्छी चीज नहीं है. बीमारी/ऑपरेशन के लिए हेल्थ insurance एक बेहद जरूरी चीज है. ये हर किसी के पास होना ही चाहिए. घर रहने के लिए लीजिये वो भी सस्ते लोन के साथ. जहां जितना डिस्काउंट मिलता है लेना चाहिए. ये बहुत बड़ा खर्च है.

बाकी हर महीने होने वाले खर्च के लिए सामान थोक भाव में लीजिये. हर महीने अगर घर के राशन में 500 बचाएंगे तो साल का 6000 होगा जिससे आपके बच्चे के लिए आराम से एक प्रिंटर खरीद सकते हैं. चीजों को ऐसे सोचना शुरू कीजिए. जो जरूरत का ना लगे उसे नहीं लेना चाहिए. जिन दुकानों में दवाएं सस्ती मिलती हैं, दवा वहीं से लेना चाहिए.

ऐसे ही कुछ उपायों से आप अपने खर्चों को मैनेज कर सकते हैं.

 

|