mother dairy

एक बड़ा मशहूर कहावत है..। शराब लेने के लिए तो इंसान धक्का-मुक्की, सब कुछ कर लेता है लेकिन दूध ग्वाला घर में दे जाएगा फिर भी लोग नहीं लेते। समय बदल गया और कहावत थोड़ा बदल रहा है। लोग अब दूध लेने के लिए भी लाईन में लगते हैं। दूर-दूर तक जाते हैं। सुबह-सुबह देखा तो इस नजारे को देख मैं भी हैरान रह गया। लोग मदर डेयरी काउंटर पर कतारबद्ध होकर दूध लेने का इंतजार कर रहे थे। हाथों में स्टील के बर्तन। बड़ी खुशी हो रही थी। हां, यह जरूर है कि शराब की दुकान पर भीड़ वैसी ही बनी है। कम नहीं हो रहा। फिलहाल तो मैं सुबह की आंखों देखी से ही खुश हूं।