कहीं से कोई बात निकली और मेरी एक शादी शुदा महिला मित्र ने कहा जब शादी हो तो अपनी होने वाली बीवी से पूछ लेना। मैंने पूछा क्या..? जवाब में रूप में मौन और खामोशी मिला।

मैंने कहा क्या वह मुझसे शादी के बाद काफी मांग करेगी। हो सकता है.. उसका जवाब। मैंने कहा कोई बात नहीं। और उसके बाद दोनों की खामोशी और बात नहीं बढ़ी लेकिन मैं कुछ सोचने लगा..।

किसी का पति होने के क्या मतलब हैं? सबसे पहले तो मैं समझता हूं कि यही एक रिश्ता है जो हमलोग इस धरती पर अपने हिसाब से बनाते हैं। एक मात्र रिश्ता। बाकी के सारे रिश्ते बने बनाए होते हैं। आपने जन्म लिया इसके साथ ही कोई आपका पिता तो कोई आपकी मां। भाई, बहन, चाचा, बुआ, मौसा..आदि। सारे के सारे रिश्तों में आप कुछ नहीं कर सकते हैं। यह सब डिफाल्ट मेड होते हैं। डिफाल्ट कहने का मतलब पहले से बने बनाए।

लड़की अपना सारा घर द्वार छोड़कर पति के घर आती है। इसका मतलब कि ब्याही लड़की का पूरा का पूरा दायित्व पति पर होता है। वह उस घर में पति के साथ आती है। पति की पूरी जिम्मेवारी होनी चाहिए कि वह अपनी पत्नी का सौ फीसदी ख्याल रखे। इसका कतई मतलब नहीं है कि वह जोरू का गुलाम बन जाए लेकिन वह अपनी पत्नी को वह सब कुछ दे जो उसे उसके मां-पिता के घर में मिलता था। तभी आप बन पाएंगे एक सफल पति।

(नोट: मैं कुंवारा हूं। अगले दो-तीन साल तक शादी नहीं करूंगा। इसको पढ़ कर कोई मुझे प्रपोज ना करे।)